Home प्रदर्शन ग्रामीणों ने मंत्री के बंगले के सामने सड़क किया जाम

ग्रामीणों ने मंत्री के बंगले के सामने सड़क किया जाम

801
0

मानपुर विधानसभा क्षेत्र से आये ग्रामीणों ने मीना सिंह बाहर निकलो और बिजली विभाग मुर्दाबाद के जम कर नारे लगाए, लेकिन मंत्री नही निकली बाहर, ग्रामीण चिल्लाते रहे।

उमरिया – जिले के मानपुर विधानसभा क्षेत्र की ऐसी तस्वीरे दिखाने जा रहे हैं, जिसे देख कर आप भी सोचने पर मजबूर हो जाएंगे।
जैसे – जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आता जा रहा है, वैसे – वैसे प्रदेश के मुख्यमंत्री, हरिजन, आदिवासी भाइयों को साधने में जी – जान से लगे हैं, क्योंकि जानते हैं कि वही हमारे वोट बैंक हैं। वहीं पिछड़ा वर्ग और महिलाओं को भी गुड़ की जलेबी देने में लगे हैं।
दूसरी तरफ उन्ही के मंत्रिमंडल की कैबिनेट मंत्री और मानपुर 90 विधानसभा क्षेत्र से विधायक मीना सिंह के क्षेत्र की जनता बिजली के लिए त्राहि – त्राहि कर रही है।
मुख्यमंत्री कहते हैं प्रदेश हमारा मंदिर और वहां रहने वाली जनता हमारी भगवान और शिवराज उनका पुजारी।

वही भगवान बिजली के लिए परेशान इस कार्यालय से उस कार्यालय भटक रहे हैं, किसी कार्यालय में अधिकारी बाहर ही नही निकलते हैं, तो किसी कार्यालय में उनको जेल भिजवाने और स्टेचू बनवाने की धमकी दी जाती है। वह भी कैबिनेट मंत्री के गृह जिले में और उन्ही के विधानसभा क्षेत्र की जनता के साथ ऐसा हो रहा है और मंत्री मूकदर्शक बनी तमाशा देख रही हैं। ग्रामीणों की मेहनत बिना पानी के खत्म हो रही है, बारिश न होने से फसल सूख रही है, थोड़ा बहुत उम्मीद अपने संसाधनों से सिंचाई करने की है तो बिजली नही मिल रही है, सैकड़ों ट्रांसफार्मर जले हुए हैं।


इन सब से नाराज होकर आज सैकड़ों की तादात में मानपुर विधानसभा क्षेत्र से आये ग्रामीणों ने मंत्री मीना सिंह को जम कर कोसा, कहा हम भीख नहीं मांगते अपना अधिकार मांग रहे हैं। बिजली विभाग मुर्दाबाद और मीना दीदी बाहर निकलो के नारे लगाते रहे, आक्रोशित ग्रामीण मंत्री के बंगले के सामने सड़क जाम करके बैठे गए।

बाद में ग्रामीणों को सुरक्षा की दृष्टि से एडिशनल एसपी प्रतिपाल सिंह महोबिया पुलिस बल के साथ पहुंच कर, सभी ग्रामीणों को पुलिस कंट्रोल रूम मैदान लाकर समझा बुझा कर उनको वापस लौटाए।

इतना सब कुछ होने के बाद भी जनजातीय कार्य मंत्री मीना सिंह अपने मुख्यमंत्री के भगवान और अपने विधानसभा क्षेत्र की पीड़ित जनता से मिलना मुनासिब नहीं समझी और बंगले से बाहर नही आईं।
इन सबको देख कर तो ऐसा लगता है कि उनको अब दुबारा इन ग्रामीणों के पास वोट मांगने नही जाना है और न ही इनसे निकट भविष्य में कोई काम पड़ेगा।
खैर सत्ता परिवर्तन के लिए ऐसा ही आक्रोश जनता में होना चाहिए जो अभी से उनके मन मे पनप रहा है, यदि यही हाल रहा तो निश्चित ही आने वाले विधानसभा चुनाव में जनता सबका हिसाब लेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here