Home वाइल्डलाइफ लक्ष्मी की मौत से वन्य जीव प्रेमियों में हड़कंप

लक्ष्मी की मौत से वन्य जीव प्रेमियों में हड़कंप

1131
0

5 वर्षीय हथिनी की मौत की खबर सुनते ही दहल गए वन्य जीव प्रेमियों के दिल, बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व प्रबंधन संदेह के घेरे में।

विश्व के मानचित्र पर अपना अलग स्थान रखने वाला उमरिया जिले का बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व इन दिनों लगातार हो रहे वन्य जीवों की मौत के मामले में अव्वल बना हुआ है। जैसे ही वन्य जीव प्रेमियों ने लक्ष्मी के मौत की खबर सुनी उनमें मायूसी की लहर दौड़ गई। मामला है बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के प्रसिद्ध हाथी गौतम और हथिनी अनारकली की 5 वर्षीया बेटी लक्ष्मी की मौत का। यह खबर बाहर आते ही पार्क प्रबंधन में अफरा तफरी का माहौल मच गया। इस घटना की खबर लगते ही किसी अधिकारी का फोन ही नही लगा।
मिली जानकारी के अनुसार उमरिया जिले के बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व क्षेत्र में अभी दो दिन पहले तेंदुआ शावक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। उसके बाद जंगली सुअरों की मौत की खबर भी सुनने को मिली और आज की लक्ष्मी के मौत की खबर सामने आ गई।
गौरतलब है कि 5 वर्षीया हथिनी लक्ष्मी की अठखेलियों से जहां बाधवगढ़ टाइगर रिजर्व गुलज़ार हो रहा था। वहीं इसकी अठखेलियाँ देखने दूर-दूर से पर्यटक भी आ रहे थे लेकिन अचानक उसकी मौत ने सबको दुखी कर दिया।

इस मामले में बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के एसडीओ सुधीर मिश्रा ने बताया कि कल्लवाह रेंज के जनाढ़ कैम्प में जंगली हाथी ने हाथी के बच्चे (लक्ष्मी) के ऊपर दांतों से हमला किया था जिसकी वजह से (लक्ष्मी) हथनी की मौत हो गई है, 3 डॉक्टरों की टीम से उसका पोस्टमार्टम करवाकर शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया है और इसके कारणों की जांच की जा रही है।
गौरतलब है कि बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व का इतना बड़ा अमला और दिन रात वाहनों से पेट्रोलिंग और पैदल गश्ती दल उसके बाद हर कैम्प में कर्मचारियों की तैनाती के बाद लक्ष्मी के चिग्घाडने की आवाज किसी को सुनाई नही दी और जंगली हाथी के हमले से उसकी मौत हो गई। यह घटना साफ बता रही है कि सारा काम कागजों में हो रहा है और फर्जी तौर पर डीजल, पेट्रोल के बिल आहरण कर लाखों का बंदरबांट किया जा रहा है। आवश्यकता है उच्च स्तरीय जांच की ताकि सारे मामले का खुलासा हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here