Home अवैध उत्खनन परिवहन तालाब खुदा नहीं मगर डेरा डाल दिए अवैध उत्तखनन जोरों पर

तालाब खुदा नहीं मगर डेरा डाल दिए अवैध उत्तखनन जोरों पर

165
0

उमरिया – जिले मे रेत खदानों की नीलामी पूर्व मे हुई थी लेकिन अत्यधिक मँहगी होने के कारण ठेकेदार और विभाग मिल कर दूसरा खेल खेले और उस टेंडर को समाप्त कर दुबारा टेंडर प्रक्रिया की गई जिसमे कई लोग मिल कर सस्ते दर पर लिए रेत खदान ले लिए।


अभी बहुत से खदानों की वैध स्वीकृति नही मिली है, कुछ खदानों की ही टीपी जारी हुई है जिसमे लीज होल्डर बाबा महाकाल मिनरल्स प्राइवेट लिमिटेड (चैन सिंह शेखावत) हैं और रेत खदान करकटी जो कि जनपद पंचायत पाली क्षेत्र में आता है वहां की ईटीपी काट कर मानपुर जनपद पंचायत क्षेत्र अंतर्गत आने वाली रेत खदान सलैया से अवैध उत्तखनन किया जा रहा है।


इस अवैध उत्खनन में शासन के राजस्व की खुले आम चोरी की जा रही है। इतना ही नही एनजीटी के निर्देशों का भी खुला उल्लंघन किया जा रहा है। जबकि एनजीटी के स्पष्ट निर्देश हैं कि नदियों में मशीनों से उत्खनन नही किया जा सकता है, साथ जितना रकवा स्वीकृत है उससे अधिक एरिया से उत्खनन नही हो सकता है लेकिन रेत ठेकेदार और खनिज विभाग की मिलीभगत से खुले आम अवैध उत्खनन जारी है और जिला खनिज अधिकारी, वन, राजस्व और पुलिस किसी को इस भारी मात्रा में किया जा रहा अवैध उत्खनन नजर नही आ रहा है। वहीं रात होते ही पचासों हाइवा और डंपर खदान से भर कर रेत ढुलाई करते हैं। इतना ही नहीं रेत ठेकेदार के गुर्गे गांवों में खुले आम 8 से 10 गाड़ियों में भर कर आते हैं और बंदूक लेकर घूमने और दहशत फैलाने का भी कार्य कर रहे हैं। जबकि बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व का एरिया होने के कारण बंदूक लेकर खुले आम घूंमना भी प्रतिबंधित है फिर भी इनके गुंडों लिए कोई नियम कानून लागू नजर लागू नही आ रहा है।


वहीं खनिज विभाग के अधिकारी फोन उठाना मुनासिब नही समझते हैं जिससे साफ जाहिर होता है कि रेत ठेकेदार और उनकी मिलीभगत से ही अवैध उत्खनन का सारा खेल खेला जा रहा है।
ऐसे में सवाल यह उठता है जब प्रदेश के ईमानदार मुखिया डॉक्टर मोहन यादव हर मामले पर तत्काल संज्ञान लेते हैं चाहे कलेक्टर, एसडीएम का मामला हो या तहसीलदार का सभी के ऊपर कार्रवाई करने में देर नही किये, और खनिज विभाग तो उन्ही के पास है और उन्ही के विभाग में इतना बड़ा घोटाला और अवैध कार्य किया जा रहा है तो क्या ऐसे में रेत ठेकेदार और खनिज विभाग के ऊपर भी कार्रवाई करेंगे ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here