Home सड़क दुर्घटना भीषण सड़क हादसा मामा भांजी गम्भीर मामा जबलपुर रिफर

भीषण सड़क हादसा मामा भांजी गम्भीर मामा जबलपुर रिफर

169
0

उमरिया – जिले के नौरोजाबाद थाना अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग 43 में जैन पेट्रोल पंप के आगे बन्ना नाला के पास कार और बाइक की जोरदार भिड़ंत हुई है, इस दुर्घटना में मामा और भांजी गम्भीर रूप से घायल हो गए, हादसे के बाद 108 एम्बुलेंस को देर होता देख नौरोजाबाद तरफ से आ रहे बाइक सवार ने मानवता का परिचय देते हुए अपनी बाइक पर प्रतिभा और उसकी माँ बब्बी बाई को लेकर जिला अस्पताल पहुंचाया, वहीं बाद में 108 एम्बुलेंस पहुंची तो गम्भीर घायल युवक को जिला अस्पताल लेकर आई, जहां उपचार किया गया।

घायल प्रतिभा बैगा पुत्री अकाली बैगा उम्र 16 वर्ष निवासी ग्राम मझगंवा ने बताया कि मेरे मामा प्रदीप बैगा पुत्र हरीदीन बैगा उम्र करीब 28 वर्ष निवासी करही टोला मेरे को लेने मेरे घर मझगंवा आये थे और हमको लेकर अपनी मोटर साइकिल से अपने घर करही टोला जा रहे थे तभी बन्ना नाला के आगे पेट्रोल पंप के पास सामने से बहुत तेजी से उल्टे साइड से आ रही सफेद रंग की कार क्रमांक एमपी 54 सीए 0394 जिसमें अन्नदाता लिखा है ने ठोकर मार दिया है जिसमे हम लोगों को चोट लगी है फिर मैं बेहोश हो गई, आगे हमको नही मालूम हमको कौन अस्पताल लाया नही पता है।


वहीं डियूटी डॉक्टर असित निगम ने बताया कि प्रदीप बैगा का पिता हरीदीन बैगा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र करकेली में वार्डबॉय के पद पर पदस्थ है और अति गम्भीर होने के कारण प्रदीप को जबलपुर रिफर किया गया है।
हरीदीन बैगा ने बताया कि पड़ोस में हमारे ही समाज मे कार्यक्रम होने के कारण रिश्ते की भांजी को लेने गया था और मैं डियूटी में रहा जैसे ही सूचना मिली तत्काल उमरिया चला आया।
वहीं सबसे खास बात यह रही कि मोटर साइकिल चालक भी हेलमेट नही लगाया था, यदि हेलमेट लगाया होता तो सर पर गम्भीर चोट नही आती।
वहीं बीएमओ करकेली डॉक्टर व्ही एस चंदेल भी घटना की जानकारी लगते जिला अस्पताल पहुंच कर नगद रुपयों की व्यवस्था कर हरीदीन को दिए और जबलपुर रवाना किये।
गौरतलब है उमरिया आरटीओ संतोष पाल द्वारा वाहनो की चेकिंग के नाम खाना पूर्ति की जाती है और अपनी जगह रीवा निवासी किसी बंटू खान से सारा काम करवाते हैं। इतना ही नही अक्सर जबलपुर में ही रहते हैं। हालांकि पूर्व परिवहन मंत्री और परिवहन आयुक्त ने गलत ढंग से इनकी पदस्थापना जिले में कर दिया है, क्योंकि इनके विरुद्ध आय से अधिक संम्पत्ति मामले में ईओडब्ल्यू ने रेड किया था जिसमे 654 गुना ज्यादा बेनामी संम्पत्ति मिली थी और वह प्रकरण अभी चल रहा है, इसलिए नियमानुसार ऐसे भ्रष्ट अधिकारी को कार्यालय में ही अटैच रखना चाहिए। नव नियुक्त मुख्यमंत्री से जिले के वाहन मालिक अपेक्षा करते हैं कि ऐसे भ्रष्ट आरटीओ को तत्काल जिले से बाहर कर कार्यालय में अटैच करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here