Home लापरवाही कब होगी over load वाहनों पर कार्रवाई परिवहन विभाग की अनदेखी

कब होगी over load वाहनों पर कार्रवाई परिवहन विभाग की अनदेखी

61
0

खुले आम नियमो की धज्जियां उड़ा रहे हैं मुख्यमंत्री अन्नदूत योजना का अनाज ढोने वाले वाहन, RTO को नही आती नजर ये गाड़ियां।

कब होगी over load वाहनों पर कार्रवाई परिवहन विभाग की अनदेखी

Umaria – जिले में नही हो रहा है शासन के नियमों का पालन, खुले आम हर विभाग में मची है धांधली, चाहे खाद्य विभाग हो या सहकारिता हो, नागरिक आपूर्ति निगम हो या वेयर हाउस हो, R E S हो या परिवहन विभाग हो, खनिज विभाग हो या P W D हो, W R D हो, पीआई यू हो या पी एच ई हो या कोषालय हो, चाहे जिस विभाग को देखें, सभी शासन के नियमों का खुले आम मखौल उड़ा रहे हैं। हां इतना जरूर है कि कागज में सभी विभाग टॉप पर हैं।
अब आपको परिवहन विभाग के हाल बताते हैं, यदि आप अपनी निजी गाड़ी से कहीं जा रहे हैं तो हर जगह नियमों की दुहाई देकर आपका चालान कर दिया जाएगा, चाहे परिवहन विभाग के अधिकारी मिल जाएं या यातायात विभाग के, दोनो एक बराबर हैं, कहीं हाई सिक्योरिटी नम्बर प्लेट का चालान होगा तो कहीं OVERLOAD का या फिर और भी बहुत से मद हैं, जिन पर चालान होहां यदि आप मालवाहक वाहन चला रहे हैं और उसमें मध्यप्रदेश शासन के लिए आरक्षित लिखवा लिए हैं तो आपको नियमों की धज्जियां उड़ाने की खुली छूट है।

कब होगी over load वाहनों पर कार्रवाई परिवहन विभाग की अनदेखी

अब आपको छोटा सा नमूना दिखाते हैं, जिले में 10 वाहन C M युवा उद्दमी योजना के तहत मुख्यमंत्री अन्नदूत योजना का खाद्यान्न ढुलाई कार्य मे लगे हैं जिसमे 4 वाहन मानपुर जनपद में, 4 वाहन करकेली जनपद में और 2 वाहन पाली जनपद में कार्यरत हैं। इनका M P GOVERNMENT के साथ एग्रीमेंट वाहन सहित भार क्षमता मात्र साढ़े सात टन अर्थात 75 क्विंटल है लेकिन इनमें 10 से 13 टन अर्थात 100 से 130 क्विंटल अनाज खुले आम कांटा पर्ची के साथ ढोया जाता है। ऐसा नही है कि किसी को जानकारी नही है, सभी को इसकी जानकारी है।

कब होगी over load वाहनों पर कार्रवाई परिवहन विभाग की अनदेखी

क्योंकि नागरिक आपूर्ति निगम कांटा पर्ची के आधार पर भाड़ा देता है और वेयर हाउस माल लोड करवाता है। इनको निजी ठेकेदारों से दोगुना भाड़ा भी दिया जाता है। उसी माल को उतनी ही दूरी तक पहुंचाने के लिए निजी ठेकेदार को 35 रुपया क्विंटल भाड़ा दिया जाता है तो इनको 65 रुपये क्विंटल भाड़ा दिया जाता है। इतना ही नही हर नियमों की खुले आम धज्जियां उड़ाई जा रही है, जिसकी गवाही कांटा पर्ची स्वयं है। कागज झूठ नही बोलता है। देखिए इस कांटा पर्ची में RAI WARE HOUSE से 23 बज कर 52 मिनट पर चावल लोड होकर निकला वह भी बोरी सहित 114 क्विंटल 77 किलो उसके बाद उसी गाड़ी में डब्ल्यू एल सी से गेंहू बोरी सहित 23 क्विंटल 30 किलो अर्थात कुल वजन 138 क्विंटल 7 किलो अब इसको टन में देखें तो 13.807 टन वजन लेकर गाड़ी गंतव्य को रवाना हुई, मतलब पौने 7 टन वजन ओवर लोड रहा। अब इसके लिए सबूत की आवश्यकता नही है क्योंकि कांटा पर्ची ही बता रही है कि कितना OVERLOAD है।

कब होगी over load वाहनों पर कार्रवाई परिवहन विभाग की अनदेखी

उसके बाद भी ये OVERLOAD माल ढुलाई करते हैं जो न तो परिवहन विभाग और न ही यातायात विभाग को नजर आता है। हां यदि कोई निजी व्यक्ति या व्यवसायी अपना माल इतनी ही मात्रा में भर कर ले जाये तो उसके वाहन की जांच और जुर्माना हर चौराहे में की जाएगी।

कब होगी over load वाहनों पर कार्रवाई परिवहन विभाग की अनदेखी

इस मामले में जब R T O संतोष पॉल से बात किया गया तो उनका कहना है कि सरकारी माल की ढुलाई होती है, हम कैसे कार्रवाई करें। जबकि R T O सभी वेयर हाउस, नागरिक आपूर्ति निगम को जरिये नोटिस आगाह कर कार्रवाई कर सकते हैं लेकिन उनके द्वारा भी नियमों की अनदेखी करने वालों को खुली छूट प्रदान की गई है और यही छूट दुर्घटना का कारण बनती है।

कब होगी over load वाहनों पर कार्रवाई परिवहन विभाग की अनदेखी

अब सवाल यह उठता है कि जब दोगुना भाड़ा देकर इन वाहनों से अनाज ढुलवाया जाता है तो OVERLOAD क्यों लोड करवाया जाता है। जबकि नागरिक आपूर्ति निगम में पंजीकृत ठेकेदार द्वारा उसी अनाज को उतनी ही दूरी तक आधे दर पर ढोया जाता है तो जबरन अधिक पैसा देकर शासन की राशि का दुरूपयोग क्यों किया जाता है, और जिले के अधिकारी कुम्भकर्णी निद्रा में क्यों व्यस्त है।
ऐसे में क्या जिले के COLLECTOR और S P यातायात और परिवहन विभाग को इन पर कार्रवाई करने के लिए निर्देशित करेंगे या इसी तरह नियमो का खुले आम माखौल उड़ाया जाता रहेगा ?

कब होगी over load वाहनों पर कार्रवाई परिवहन विभाग की अनदेखी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here