Home क्राइम सेक्टर मजिस्ट्रेट ने निर्वाचन डियूटी के दौरान आदिवासी महिला सीएचओ से किया...

सेक्टर मजिस्ट्रेट ने निर्वाचन डियूटी के दौरान आदिवासी महिला सीएचओ से किया छेड़छाड़

211
0

बांधवगढ़ विधानसभा क्षेत्र 89 में निर्वाचन डियूटी के दौरान बीमार होने का बहाना बना कर सेक्टर मजिस्ट्रेट ने आदिवासी महिला सीएचओ से किया छेड़छाड़ अपराध दर्ज।

उमरिया – जिले के बांधवगढ़ विधानसभा क्षेत्र 89 के आकाशकोट इलाके में सेक्टर मजिस्ट्रेट के रूप में एसडीओ पीआईयू पंकज गुप्ता को नियुक्त किया गया था, उनके सेक्टर में 5 पोलिंग बूथ रहे जिसमें पठारी कला, धवईझर, माली, तुम्मादर शामिल थे। इसी क्षेत्र में ग्राम बड़वार में पदस्थ 25 वर्षीया आदिवासी महिला सीएचओ निवासी ग्राम करौंदी टोला थाना मानपुर की डियूटी मेडिकल सुविधा के लिए लगाई गई थी।

पंकज गुप्ता


17 नवम्बर 2023 मतदान के दौरान दिन में लगभग ढाई बजे पोलिंग बूथ तुम्मादर में सेक्टर मजिस्ट्रेट पंकज गुप्ता द्वारा एएनएम को फोन कर बुलाया गया और कहा गया कि हमारी तबियत खराब लग रही है हमको दवा चाहिए। जबकि सीएचओ पोलिंग बूथ क्रमांक 160 पठारी कला में रही। फोन आते ही वो तत्काल तुम्मादर पहुंची जहां पोलिंग बूथ के बगल वाले कमरे में सेक्टर मजिस्ट्रेट पंकज गुप्ता लेटे हुए थे, उनने कहा कि हम मोबाइल में दवा सर्च किये हैं इसको देख लो, सेक्टर मजिस्ट्रेट के इतना कहने पर वो अपना अधिकारी समझ कर जैसे ही मोबाईल देखने को झुकी तो एसडीओ पंकज गुप्ता सेक्टर मजिस्ट्रेट बुरी नियत से उसका हाथ पकड़ कर अपनी तरफ खींच लिए जिसके कारण वह उनके ऊपर गिर गई, तब पंकज गुप्ता से वो बोली सर आप ये क्या कर रहे हैं तो पंकज गुप्ता बोले कि तुम्हारे विभाग में ये सब चलता है क्यों परेशान हो। तब किसी तरह अपने आप को छुड़ा कर वहां से चिल्लाते हुए बाहर की तरफ भागी और अपने साथी सीएचओ संजीव उइके को फोन से सूचित की तो संजीव द्वारा तत्काल सीएमएचओ डॉक्टर आर के मेहरा को खबर दी गई और खबर मिलते ही सीएमएचओ तुम्मादर पहुंच कर अपनी गाड़ी से उमरिया लेकर आये।


टी आई कोतवाली राजेश चन्द्र मिश्रा ने बताया कि पीड़िता सारी घटना बताई गई तो कोतवाली थाने में अपराध क्रमांक 647 पर धारा 354 आईपीसी और एससीएसटी एक्ट 3 (2) (VA) के तहत प्रकरण दर्ज कर आरोपी की तलाश की जा रही है।
गौरतलब है कि यदि इस तरह के अधिकारियों की डियूटी निर्वाचन जैसे कार्य मे लगाई जाएगी और अधिकारी इस तरह का व्यवहार महिला कर्मचारियों के साथ करेंगे तो निर्वाचन जैसे महत्वपूर्ण कार्यों में महिला कर्मचारी कैसे सेवा दे पाएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here