Home क्राइम एसडीएम की गुंडागर्दी सरे राह युवकों को पिटवाया उनकी गाड़ी भी तोड़े

एसडीएम की गुंडागर्दी सरे राह युवकों को पिटवाया उनकी गाड़ी भी तोड़े

180
0

उमरिया – एक तरफ जहां पूरा देश राम मय हुआ है वहीं दूसरी तरफ बांधवगढ़ एसडीएम अमित सिंह ने दो युवकों को घंघरी में जमकर पिटवाया, और उनकी गाड़ी को भी जम कर तोड़ा, दोनों युवकों का सर फटा, घंघरी ओवरब्रिज के आगे की घटना।

एसडीएम बांधवगढ़ अमित सिंह की गाड़ी को युवकों ने अपनी गाड़ी एमपी 20 सीके 2951 से ओवरटेक किया और एसडीएम साहब को नागवार गुजर गया और एसडीएम साहब ने खदेड़ कर इनकी गाड़ी को रुकवा कर प्रकाश दहिया पिता दिलीप दाहिया और शिवम यादव पिता शिव प्रसाद यादव दोनो निवासी भरौला को लाठी डंडों से बेतहाशा पिटवाया, जिसमें दोनो युवकों का सर फट गया और शिवम यादव बेहोश हो गया। इतने में भी एसडीएम साहब का मन नही भरा तो उनकी गाड़ी को बुरी तरह से तोड़वा दिए। तभी गश्त कर लौट रहे पुलिस के जवानों की नजर बेहोश युवक पर पड़ी तो उनको अपनी गाड़ी में उठा कर जिला अस्पताल में लाकर भर्ती करवाये।

गम्भीर घायल शिवम यादव को तो होश नही आया है लेकिन प्रकाश दहिया ने बताया कि हम 4 लोग आ रहे थे एक गाड़ी को ओवरटेक किये हैं और पीछे से एसडीएम साहब की गाड़ी आई जिसमे 6 – 7 लोग रहे तो रोक कर मारने लगे हैं, जबकि हम लोग कुछ नही किये हैं, हमारी गाड़ी से किसी को चोट भी नही लगा है, एक मक्खी तक नही मरी है। मेरा हाथ नही उठ रहा है और लोग भाग गए थे, जो चला रहा था शिवम यादव भरौला का है मेरा दोस्त है वो बेहोश हो गया है। गाड़ी नम्बर नही पता है उसमें एसडीएम लिखा था ये पता है मेरे को।

वहीं इस मामले में सफाई देते हुए एसडीएम बांधवगढ़ अमित सिंह ने बताया कि आज पूरे जिले में रामजी को लेकर कार्यक्रम चल रहा था, जिसके कारण हम क्षेत्र तरफ गए हुए थे तो जाते समय देखे कि एक गाड़ी तेजी से हमारी तरफ आ रही है और वो हमको कट मारने की कोशिश की तो उनको बचाने के चक्कर मे हमारी गाड़ी पलटते – पलटते बची, हम वहां देखे तो भीड़भाड़ रही हम सोचे कि कोई अप्रिय घटना न होने पाए तो उनके साथ मारपीट हो रही थी तो मेरे द्वारा समझाइस दी गई कि ये न करें जो भी कानूनी कार्यवाही होनी है वो पुलिस करे और उसी समय पुलिस बल भी उपलब्ध हो गया था, और हमारे द्वारा नगर निरीक्षक महोदय को अवगत कराया गया था और मारपीट करने वालों पर विधि सम्मत कार्रवाई होगी।


अब सवाल यह उठता है कि पीड़ित खुद कह रहे हैं कि एसडीएम साहब खुद खड़े होकर पिटवाये हैं और एसडीएम साहब दूसरों पर आरोप लगा रहे हैं।
ऐसी अमानवीय घटना को देखते हुए चारो तरफ एसडीएम की निंदा की जा रही है। अब देखना होगा कि ऐसे में प्रदेश के मुखिया क्या एक्शन लेते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here