Home वाइल्डलाइफ बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में हाथी का शिकार

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में हाथी का शिकार

742
0

उमरिया – जिले के विश्व प्रसिद्ध बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के पनपथा परिक्षेत्र के कोर जोन के चितरांव बीट के कक्ष क्रमांक R F 462 बड़वाह मूंडा में बाघों ने मिल कर 2 वर्ष के हाथी का शिकार कर लिया।

गौरतलब है कि बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व की यह पहली घटना सामने आई है। क्षेत्र संचालक राजीव मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि 10 अप्रैल को दिन में करीब 11 बजे हमारे गश्ती दल ने देखा और हमको सूचना दिया कि एक नर हाथी का शिकार बाघों द्वारा किया गया है, जिसकी सूचना तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई और मौके पर वहां पहुंचकर डॉक्टर के साथ जाकर देखा गया तो मृत हाथी का पीछे का भाग बाघ द्वारा खाया गया दिखा जिसमें कुछ दूर बाघों ने मृत हाथी को घसीटा है और तीन तीन बाघों के पग मार्क वहां पर मिले हैं जिससे लगता है कि तीन बाघों ने मिलकर खाया है हालांकि यह घटना बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के लिए पहली घटना है।

हाथी के नाखून, दांत वगैरह सभी कुछ मिले हैं, हाथी के शरीर मे बाघ के नाखून के निशान भी मिले हैं, और नर बाघ भी वहां देखा गया है जिससे साफ हो गया है कि नर बाघ द्वारा ही घटना कारित की गई है।
आए दिन बाघों द्वारा वन्य प्राणियों के अलावा मनुष्यों का भी शिकार किया जा रहा है जिससे साफ-साफ जाहिर हो रहा है कि बाघों को पर्याप्त आवास की जगह नहीं मिल रही है जिसके कारण बाघ गांव की तरफ भाग रहे हैं और जो भी सामने आता है उसका शिकार कर रहे हैं हालांकि हाथी के शिकार की यह पहली घटना है इसके पहले कर्नाटक में ऐसी घटना सुनने को मिली थी मगर बांधवगढ़ के इतिहास में बांधवगढ़ ही नहीं बल्कि मध्य प्रदेश के इतिहास में पहली घटना है कि बाघों ने हाथी का शिकार किया यह घटना अत्यंत विचारणीय है कहीं ऐसा न हो यदि यही स्थिति रही तो जंगली के अलावा बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में जो पालतू हाथी है उनका भी शिकार करना शुरू कर दें। प्रबंधन की लापरवाही का नतीजा लगातार सामने आता जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here