Home कार्रवाई जिला परियोजना समन्वयक को कमिश्नर ने किया निलंबित

जिला परियोजना समन्वयक को कमिश्नर ने किया निलंबित

142
0

उमरिया – जिले में दिनांक 26/12/2023 को नेताजी सुभाषचंद्र बोस बालिका छात्रावास बेलसरा में 8 – 10 बच्चियां अचानक बेहोश हो गई थीं। जिसको लेकर हड़कंप मच गया, आनन फानन में जिले से डॉक्टरों की टीम रवाना की गई, उस क्षेत्र की जनपद पंचायत सदस्य भी मौके पर पहुंच गईं थी। चारो तरफ हड़कंप मच गया कि भूत प्रेत का साया छात्रावास में है। बच्चियों ने बताया था कि वार्डन रात में 3 – 4 गुनिया, ओझा लेकर आती हैं और तंत्र – मंत्र करवाती हैं। उनको टार्चर करती हैं, खाना भी पूरा नही मिलता है। खाना मांगने पर बच्चियों को धमकी देती हैं। उसके बाद मामला जिले के कलेक्टर एवं मिशन संचालक बुद्धेश कुमार वैद्य के संज्ञान में आने के बाद मेडिकल टीम भेजी गई और जब बच्चियों की जांच की गई तो पता चला कि कमजोरी की वजह से चक्कर आ गया था और बच्चियां बेहोश हो गईं थी, उनका उपचार किया गया और उनके अभिभावक घर ले गए।
इस पर कलेक्टर ने तत्काल वार्डन केतकी सिंह को निलंबित कर दिया था।

परियोजना समन्वयक सुमिता दत्ता से जबाब मांगा गया था। उनकी पूरी लापरवाही पाए जाने के कारण जिले के कलेक्टर ने कमिश्नर को पत्र लिख कर निलंबित करने की अनुशंसा किया कि मध्यप्रदेश सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के नियम 03 और नियम 23 के अंतर्गत दंडनीय पाए गया है।

जिस पर शहडोल संभाग के प्रभारी कमिश्नर अनिल सुचारी ने कलेक्टर उमरिया द्वारा प्रेषित प्रस्ताव के आधार पर मध्यप्रदेश सिविल सेवा (वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील) अधिनियम 1966 के नियम 9 (1) में प्रदत्त शक्तियों का उपयोग करते हुए श्रीमती सुमिता दत्ता जिला परियोजना समन्वयक जिला शिक्षा केन्द्र उमरिया को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है एवं निलंबन अवधि में उनको कार्यालय मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत उमरिया में अटैच कर दिया गया है। निलंबन अवधि में जीवन निर्वाह भत्ता देय होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here