Home क्राइम व्यापारी की ह्त्या का खुलासा – सुरेन्द्र त्रिपाठी 24-01-2019

व्यापारी की ह्त्या का खुलासा – सुरेन्द्र त्रिपाठी 24-01-2019

493
0

 

 

उमरिया 24 जनवरी – जिले के चंदिया थाना अंतर्गत गढ़ी समीप स्थानीय कारोबारी सुरेश अग्रवाल एवम उसके परिवार जनों पर अज्ञात आरोपियों ने रविवार की रात तलवार से जानलेवा हमला किया, जिसमे व्यवसायी सुरेश की मौत हो गई इस घटना में उनकी पत्नी संगीता अग्रवाल एवम 15 वर्षीय बेटी कशिश अग्रवाल गम्भीर बताये जा रहे है । जानकारी के बाद मौके पर पहुंच पुलिस ने घायलों को तत्काल अस्पताल भिजवाया है, साथ ही घटना के बाद पुलिस इस पूरे मामले की जांच में जुट गई और कई टीम बना कर जगह – जगह दबिश दी जिसमें आरोपी पकड़ा गया |

उमरिया जिले के चंदिया नगर में रविवार की रात हुई ह्रदय विदारक घटना ने सबको झकझोर कर रख दिया घटना के बाद आक्रोशित नगर के व्यवसायियों ने नगर को बंद कर दिया और सामुदायिक स्वस्थ्य केंद्र में पदस्थ डाक्टर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया, व्यवसायी संजीत गुप्ता बताये कि हम लोग रात लगभग 10 साढ़े 10 बजे गढ़ी चौराहे से आ रहे थे उसी समय सुरेश जी की बेटी खून से लथ – पथ दौड़ती हुई आई और बोली मेरे पापा को बचा लो दूध वाला मार डालेगा तब मेरे दोस्त लोग खड़े थे उनको आवाज लगाये और पीछे से गए कि भागने न पाए फिर दौड़ते हुए गढ़ी चौराहा गए लेकिन कोई नहीं मिला वहीँ से 100 डायल को काल किया पोलिस बहुत देर से आई, हम लोग यहाँ इसलिए खड़े हैं कि जब तक कातिल नहीं पकड़ा जाएगा और डाक्टर सोहगौरा को यहाँ से नहीं हटाया जाएगा तब तक हम लोग नहीं मानेंगे | वहीँ संजय अग्रवाल बताये कि सुरेश जी की बच्ची घर से निकली और व्बोली कि मेरे मम्मी – पापा को बचा लीजिये, हम भीड़ एकत्रित करके अन्दर घुसे लाठी वगैरह लेकर तो अन्दर खून ही खून था बच्ची बाहर आ गई थी, पत्नी खून से लथपथ पडी थी होश में थी बोलीं बचा लीजिये अन्दर वो हैं अस्पताल ले चलिए हम अन्दर सबको लेकर गए तो सुरेश जी अचेत अवस्था में थे फिर सबको अस्पताल ले गए सुरेश जी की म्क़ुत हो चुकी है उनकी पत्नी अभी खतरे में हैं कटनी में एम जी एम अस्पताल में भरती हैं बच्ची भी वहीँ है उसके हाथ में बहुत बड़ी चोट थी अस्पताल में उनको प्राथमिक उपचार नहीं मिला आशुतोष जी डाक्टर खटिक को बुलाये तब उपचार हुआ है जो कि बहुत लेट हो गया इसीलिए डाक्टर को हटाया जाय |

इस मामले में जिले के एस पी डाक्टर असित यादव बताये कि चंदिया थाने में रविवार की रात एक विचलित कर देने वाली घटना हुई थी एक अग्रवाल परिवार है जिसके मुखिया सुरेश अग्रवाल हैं, एक व्यक्ति ने उनकी ह्त्या कर दिया साथ में उनकी 15 साल की बच्ची और पत्नी को भी चोट पंहुचाया पुलिस के लिए यह बहुत ही चैलेंजिंग था हमें भी 11 बज कर 5 मिनट पर सूचना मिली तो हम भी वहां पंहुचे और एडिशनल साहब और एस डी ओ पी साहब को निर्देश दिए |

वहीँ जिले के पुलिस कप्तान बताये कि वहां पर जो उपस्थित लोग थे बताये कि बच्ची ने बताया कि वही था और मार दिया है उसके आधार पर एक टीम कटनी भेज दिया गया जहां पर देहाती नालशी हुई और संजय के जितने ठिकाने थी वहां दबिश दिए तो नहीं मिला रात में उसके घर वालों को बुला लिया गया था तो उन लोगों ने बताया कि शाम को 7 बजे से संजय घर नहीं लौटा है तो शक और पक्का हो गया इसी बीच संजय के जितने नजदीकी व्यक्ति थे सभी के घर दबिश डाली तो एक मित्र बताया था कि संजय पूने जाने की बात बोल रहा था तो ऐसे में पुलिस के लिए चैलेन्ज हो जाता है और आरोपी को बहुत ज्यादा भागने का मौक़ा नहीं मिला स्टेशन में इसको मौक़ा नहीं मिला तो ये एक ट्रक में गया था दमोह बाय पास तब सायबर टीम ने लोकशन ट्रेश किया तो लमतरा की लोकेशन आई तब वहां की टीम को बताया गया तो उनने इसको सफलता पूर्वक पकड़ लिया |

वहीँ पुलिस अधीक्षक डाक्टर असित यादव बताये कि जो हत्यारा है संजय यादव नाम का 19 वर्ष का व्यक्ति है उनके यहाँ दूध 6 – 7 साल से लाया करता था, इसमें पुलिस ने संजय यादव को गिरफ्तार कर लिया है इसका बोम्बे या पूना जाने का प्लान था और पुलिस हर जगह थी स्टेशन और बस स्टैंड पर हर जगह दबिश दी गई तो यह निकल नहीं पाया इसको गिरफ्तार कर लिया गया अभी प्राथमिक पूंछ – तांछ में इसने बताया कि सुरेश अग्रवाल जी थे उनसे हमेशा वाद – विवाद होता रहता था, 4 – 5 महीने से वो इसको गलत अपशब्द बोल देते थे, और क्या कारण हो सकते हैं इस घटना के हम इसका पुलिस रिमांड लेंगे और पूरी जानकारी लेने का प्रयास करेंगे, इसमें देहाती नालसी हुई थी तो इसको 307 आई पी सी में पंजीबद्ध किया गया था बाद में सुरेश अग्रवाल जी की मौत हो गई तो 302 बढाया गया था और उसके बाद 460 और 497 धारा बढाई गई |

गौरतलब है कि सन 2012 में ही ऐसे ही एक यादव ने पत्रकार चंद्रिका राय की परिवार सहित हत्या किया था और उसके बाद दूसरी ऐसी ह्रदय विदारक घटना चंदिया में भी यादव द्वारा घटित की गई है जबकि पत्रकार के परिवार की घटना में आरोपी यादव उनका ड्राईवर था और यह घर में दूध देने वाला, ऐसे में तो लोगों का इंसानियत पर से भरोसा ही उठ जाएगा, ऐसी घटनाओं को अंजाम देने वालों को तो मौत की सजा होनी चाहिए ताकि दूसरा कोई भी हिम्मत न जुटा सके |

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here