Home राज्य पिंक रैली निकाल कर किये मतदाताओं को जागरुक, बच्चों का हुआ...

पिंक रैली निकाल कर किये मतदाताओं को जागरुक, बच्चों का हुआ दुरुपयोग – सुरेन्द्र त्रिपाठी

524
0

पिंक रैली

उमरिया 30 अक्टूबर – जिला मुख्यालय में कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी के अगुवाई में मतदाता जागरूकता के लिए पिंक रैली महाविद्यालय से निकल कर नगर के ह्रदय स्थली गांधी चौक तक निकाली गई और शपथ दिलाई गई वहीँ रैली में छोटे – छोटे बच्चे एवं बच्चियों की भरमार रही | जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष आरोप लगाये कि बाल संरक्षण अधिनियम का हुआ उल्लंघन, सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों की हुई अवहेलना |

उमरिया जिला मुख्यालय स्थित शासकीय महाविद्यालय से लगभग 2 हजार बच्चों सहित जिले भर के अधिकारी पिंक ड्रेस में डेढ़ किलोमीटर तक पैदल रैली निकाल कर नगर के ह्रदय स्थली गांधी चौक तक आये और कलेक्टर ने सभी को मतदान का प्रतिशत बढाने एवं निष्पक्ष मतदान करने के लिए शपथ दिलाया हालांकि इस रैली में कक्षा 6 से 8 तक की बहुत बच्चियां रहीं | इस मामले में जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष पुष्पराज सिंह आरोप लगाते हुए कहे कि नॅशनल प्रोटेक्शन ऑफ़ चाइल्ड करके एक अधिनियम बनाया गया है जिसमें यह गया है कि किसी भी बच्चे को कक्षा 5, 6, 7, 8, 9 के हैं, उनका किसी भी प्रकार से रैली में, सभाओं में उपयोग नहीं किया जाएगा, इसके अलावा जो चाइल्ड प्रोटेक्शन बनाया गया है उसमें सतत निगरानी की बात कही गई है इसमें भी सभी बच्चो का रैली सभाओं में उपयोग प्रतिबंधित किया गया है किन्तु पिंक मतदाता जागरूकता रैली में जो छोटे – छोटे बच्चों का उपयोग किया गया है यह कानून के खिलाफ है, और जो भी आयोग है उसके पास हम शिकायत करेंगे, बात करेंगे कि बच्चों का कतई मतदान रैली में उपयोग न किया जाय, यदि उपयोग करना है तो 18 साल से हयादा के बच्चों का उपयोग कीजिये, 10, 11, 12 के बच्चों का उपयोग कीजिये, नागरिकों, एन जी ओ का उपयोग कीजिये ये बच्चे न मतदान कर सकते हैं और न किसी को प्रेरित कर सकते हैं इनका कहना कौन मानेगा, जो जिला प्रशासन ने निर्वाचन के नाम पर किया है वह अच्छी बात नहीं है |

इस मामले में नगर पालिका सी एम ओ हेमेश्वरी पटले का कहना है कि निर्वाचन आयोग के निर्देश प्राप्त थे कि जहां पर महिला मतदाता कम हैं जो अपने वोट का प्रयोग नहीं कर पाती हैं उनको जागरुक करने के लिए पिंक मतदान केंद्र का माडल रूप बनाया गया है, जिसके अंतर्गत आज हम उमरिया नगर पालिका क्षेत्र में और पूरे जिले भर में पिंक रैली के रूप में आयोजन किया जा रहा है, जिसमें महिला मतदाओं को जागरुक किया जाय और अपने वोट का पूरा प्रयोग करें, वहीँ बाख चों के मामले में कहीं कि स्कूलों में हम जो बाख चों को सिखाते हैं वह अपने घरों में जाकर अपने अभिभावकों को बताते हैं, हो सकता है उनके घरों में वोट को लेकर जागरूकता न हो तो बाख चों के माध्यम से भी जागरुक किया जा रहा है |

वहीँ जिले के कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी माल सिंह कहे कि विधान सभा निर्वाचन का मतदान 28 नवम्बर को होना है इस मतदान में महिलाओं का प्रतिशत बढाने के लिए और ज्यादा से ज्यादा महिलायें मतदान में भाग लें इसके लिए आज हमने सभी जिले के अधिकारी, कर्मचारी सभी आज पिंक ड्रेस में हैं और महिलाओं का सम्मान और उनको सशक्तीकरण की दिशा में बढ़ावा देने के लिए मतदान के प्रति प्रेरित करने के लिए आज यह रैली थी जिसमें जिले के सभी अधिकारी, कर्मचारी और स्कूलों के छात्र – छात्राएं आये हैं और इस अभियान को सफल बनाये हैं |

गौरतलब है कि मतदाता जागरूकता तो अच्छी पहल है लेकिन हर दिन जहां बच्चों की रैली निकाली जा रही है और  चुनाव के चलते उनकी पढाई प्रभावित हो रही है उस पर भी ध्यान देना चाहिए ताकि उनका भविष्य संवर सके |

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here