Home क्राइम चंदिया पुलिस को मिली बड़ी सफलता, पकडे गए नशीली दवाओं के कारोबारी...

चंदिया पुलिस को मिली बड़ी सफलता, पकडे गए नशीली दवाओं के कारोबारी – सुरेन्द्र त्रिपाठी

493
0

 

उमरिया 07 अप्रैल – जिले के चंदिया पुलिस ने किया बड़ी कार्यवाई, आचार संहिता के मद्देनजर उमरिया और कटनी जिले की सीमा महानदी बैरियल में एस एस टी और पुलिस की टीम ने संयुक्त रूप से वाहनों की चेकिंग के दौरान पकड़ा नशीली दवाओं का जखीरा, पुलिस ने आरोपियों को पेश किया न्यायालय में |

शासन द्वारा प्रतिबंधित नशीली दवाओं का जिले में सालों से अवैध कारोबार चल रहा है, जिसके चलते युवा पीढी तेजी से नशे के गिरफ्त में फंसती जा रही है और उसी नशे के चलते अपराध के दलदल में भी फंसते जा रहे हैं ऐसे में पुलिस की यह कार्यवाई मील का पत्थर साबित हो रही है | जिले के पुलिस के मुखिया बताये की चंदिया पुलिस उमरिया और कटनी जिले की सीमा पर आचार संहिता के मद्देनजर वाहनों की चेकिंग कर रही थी तभी छोटा हाथी कहे जाने वाला मैजिक वाहन फर्नीचर से लदा हुआ चला आ रहा था उसको रोक कर चेक करने लगे तो चालक के बगल की सीट पर बैठा काले रंग का थैला लिए हुए युवक भागने लगा तो पुलिस दौड़ा कर पकड़ी तो चालक ने बताया की लमतरा फाटक के आगे से 25 रुपये देकर बैठा था और कहा की नौरोजाबाद तक लेते चलो तो हम ले आये हमको नहीं मालुम क्या रखा है, तब उसके पास से 60 सीसी कोरेक्स का डूपलीकेट ओनरेक्स और नाइट्राजेपाम 300 गोली और बुप्रेनोर्फिन, जेविल, एविल इंजेक्शन 12 नग मिले जिसको जप्त कर पूंछ – तांछ किया गया तो पकड़ा गया आरोपी रमाकांत विश्वकर्मा पिता श्री लक्ष्मी कान्त विश्वकर्मा उम्र 38 वर्ष निवासी बडागांव थाना नौरोजाबाद ने बताया कि कटनी स्थित जीवन ज्योति मेडिकल स्टोर्स से लाकर करकेली स्थित हरो ॐ मेडिकल स्टोर्स में देते हैं | इस पर पुलिस ने हरीओम मेडिकल स्टोर्स के संचालक रावेन्द्र द्विवेदी पिता इंद्र भान द्विवेदी निवासी बडागांव और जीवन ज्योति मेडिकल स्टोर्स कटनी के संचालक विनय वीरवानी पिता दिलीप वीरवानी के विरुद्ध चंदिया थाने में अपराध क्रमांक 85/19 धारा 21,22 एनडीपीएस एक्ट एवं ड्रग्स कंट्रोल एक्ट की धारा 13 तथा आई पी सी की धारा 109 के तहत कायम कर आरोपियों को न्यायालय में पेश किया गया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया वहीँ एस पी कहे की इस मामले में ड्रग्स इन्स्पेक्टर को भी लिखा जाएगा ताकि मेडिकल स्टोर्स संचालकों के लायसेंस निरस्त किये जाएँ |

गौरतलब है कि नशीली दवाइयों के कारोबारी जिले भर में नहीं पड़ोसी जिलों में भी सक्रीय रह कर युवा पीढी को बर्बाद करने पर तुले हैं, मानपुर स्थित अजय मेडिकल स्टोर्स भी इन दवाओं का बड़ा व्यापारी है वहीँ नोरोजाबाद में भी खुले आम नशीली दवाओं का कारोबार जम कर होता है लेकिन ड्रग इन्स्पेक्टर ऐसे समाज विरोधी मेडिकल स्टोर्स संचालकों से मोटी रकम वसूल कर आँख बंद किये बैठे हैं अब शायद पुलिस ही युवा पीढी को नशे के आगोश में जाने से युवा पीढी को बचाए |

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here