Home राज्य उमरिया कलेक्टर कि पहल आन लाइन जन सुनवाई – सुरेन्द्र त्रिपाठी

उमरिया कलेक्टर कि पहल आन लाइन जन सुनवाई – सुरेन्द्र त्रिपाठी

540
1

आन लाइन जन सुनवाई

उमरिया 25 सितम्बर – कलेक्टर ने शुरू किया आन लाइन जन सुनवाई, कई मामले आये जिसमें वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से किये निर्देशित, फरियादी भी कहे अच्छी लगी जन सुनवाई, वहीँ पाली से आया मामला छत के ऊपर से हाई टेंसन तार हटाने का, तो दूसरा मामला रहा राशि भुगतान का वहीँ जिले भर से आई मध्यान्ह भोजन बनाने वालियों ने कहा हमारा वेतन 1 हजार से बढ़ा कर 5 हजार किया जाय नहीं तो हम लोग शिवराज सिंह को वोट नहीं देंगे |

उमरिया जिले के पाली जनपद अंतर्गत ग्राम पंचायत गोरईया में लोगों के घरों के 2 फुट ऊपर से हाई टेंसन लाईन विद्युत विभाग द्वारा खींच दिया गया है जिसके बारे में समाज सेवी अमृत लाल विश्वकर्मा कहे कि हम लोग 7 साल से लगातार विद्युत विभाग को आवेदन दे रहे हैं लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई है जबकि कई बड़ी घटनाएँ भी घाट चुकी है फिर भी कोई ध्यान नहीं देता है आज हम लोग कलेक्टर साहब के पास आवेदन दिए हैं जिसमें डी ई को निर्देशित किये हैं |

इस मामले में जिले के कलेक्टर माल सिंह का कहना है कि यह कोई नया मामला नहीं है कई साल पुराना मामला है हमने इसके लिए एम पी ई बी को पत्र भेजा है वो क्या कर सकते हैं हम देखेंगे |

 

वहीँ दूसरा मामला मानपुर जनपद के ग्राम देवरी से आया, देवरी निवासी राम सुमन बताया कि हम मध्यान्ह भोजन बनाने के लिए ईधन देते थे उसका पैसा नहीं मिल पाया है जिसके लिए कलेक्टर साहब के पास आये थे और कलेक्टर साहब हमारे सामने मानपुर सी ई ओ को बोले हैं वहीँ हमको बोले कि जाकर मैडम से मिल लो, हमको उनकी कार्यवाई अच्छी लगी |

आन लाइन जन सुनवाई के मामले में जिले के कलेक्टर माल सिंह का कहना है कि व्ही सी के माध्यम से जन सुनवाई कर रहे हैं हमारा प्रयास है कि लोगों को दूर तक आना न पड़े वो अपने विकास खंड लेबल पर उपस्थित होकर निराकरण कर सकते हैं लगातार हमारा यह प्रयास है कि लोगों की समस्याओं का निराकरण समय पर हो |

वहीँ सबसे बड़ा मामला रहा जिले भर के स्कूलों में मध्यान्ह भोजन बनाने वाली रसोइया जिले के कलेक्टर के पास मांग करने आयीं कि हमारा गुजारा इतने पैसे में नहीं होता है, इस मामले में संजू बताई कि हम लोगों को 30 रुपया रोज मिलता है, हमारे बच्चे भी हैं कैसे गुजरा होगा, 11 बजे दिन से जाते हैं 3 बजे तक रहते हैं, वहां झाडू लगाने से लेकर खाना बनाने, बर्तन साफ़ करने तक का काम करते हैं फिर हम लोग 3 बजे घर आते हैं अब हमको 3 बजे कौन काम में लगाएगा, ऐसे में हमारे बच्चे कैसे पलेंगे दो माह में 1 माह का वेतन मिलता है यही समस्या लेकर आये हैं | वहीँ पाली के वार्ड नंबर 2 मैर टोला पाली से आई रसोइया लक्ष्मी विश्वकर्मा कही कि हमारी मांग पूरी नहीं हो रही है इसीलिए हम लोग आये हैं 1 हजार में कुछ नहीं होता है, हमारा गुजारा नहीं होता है, हम लोगों की मांग है कि हमारा वेतन 5 हजार किया जाय हमारी यही मांग है चनाव में अगर हमारी मांग पूरी नहीं करेंगे तो हम कोई महिला वोट नहीं देंगे, वहीँ खुले शब्दों में कहीं कि जब तक शिवराज सिंह हमारा वेतन 5 हजार नहीं करेंगे तब तक हम लोग शिवराज सिंह को वोट नहीं देंगे |

हालाँकि इस मामले में जिले के कलेक्टर माल सिंह कुछ भी बोलने से इंकार कर दिए, वहीँ चुनाव नजदीक आते ही लोगों का वर्तमान सरकार के प्रति गुस्सा उबाल मार कर बाहर आने लगा है, ऐसे में चुनावी ऊंट किस करवट बैठेगा पता नहीं |

 

1 COMMENT

  1. Sir ji main shahdol distic ka rahne Wala hu tahsil beohari Gram papoundh ka Kya app bata sakte hai ki garibo ke liye Jo yojna nikalti hai us yojna ko garibo ki Kyo nahi suna jata Abhi tak humara nato rasan card bana Na to pm avas Aya humare rahne ke liye Ghar bhi nahi hai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here