Home राज्य अन्नदाता अधिकार यात्रा – सुरेन्द्र त्रिपाठी

अन्नदाता अधिकार यात्रा – सुरेन्द्र त्रिपाठी

533
0

अन्नदाता अधिकार यात्रा

उमरिया 26 सितम्बर – जिले में पंहुची अन्नदाता अधिकार यात्रा, केंद्र सरकार से 4 मांगों को और प्रदेश सरकार से 28 मांगों को लेकर 15 अगस्त से चल रही यात्रा आज पंहुची उमरिया 28 अक्टूबर को भोपाल में होगा समापन, 182 किसान संगठनो की है यह यात्रा |

देश के किसान लगातार सरकार की नीतियों के चलते पिस रहा है, इसलिए देश के 182 किसान संगठन मिल कर शिव कुमार कक्का जी के नेतृत्व में किसान महा संघ बना कर रैली और आन्दोलन का बिगुल फूंक दिए, आज उमरिया जिले में आई इस यात्रा का सञ्चालन किसान महा संघ के युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल राज गांधी चौक में नुक्कड़ सभा कर किसानो को अपने अधिकार के लिए आगे आने का आह्वान किये वहीँ कहे कि हमारी यह यात्रा केंद्र सरकार से अपनी 4 मांगों को मनवाने के लिए है 15 अगस्त से मंदसौर से चल कर 28 अक्टूबर को समाप्त होगी, प्रदेश के 51 जिले 300 जनपद में किसान को अपने अधिकार के लिए तैयार करेंगे वहीँ किसानों के हित के लिए मांगों में केंद्र सरकार से पहली मांग है कि मोदी जी अपने चुनावी घोषणा पात्र के पांचवे नंबर में लिखे थे और मोदी जी ने अपने भाषण में 400 बार कहे थे कि यदि केंद्र में भाजपा की सरकार आयेगी तो किसानों को उनकी लागत का डेढ़ गुना मूल्य स्वामीनाथन आयोग के सी टू प्लस फिफ्टी के आधार पर देंगे तो मोदी जी अपने वादे को पूरा करें, दूसरी मांग है कि जब आप 24 हीरा व्यापारियों का 17 लाख 12 हजार करोड़ का कर्जा माफ़ कर सकते हैं और मुट्ठी भर पूंजीपतियों का न जाने कितने हजारों, लाखों करोड़ों का टैक्स माफ़ कर सकते हैं तो देश के 70 करोड़ किसान का 6 लाख 35 हजार करोड़ का कर्जा है, सभी प्रकार के ऋण से सभी किसानो को ऋण मुक्त किया जाय, तीसरी मांग है कि जब 8 घंटा ए सी और पंखे में बैठने वाले कर्मचारी – अधिकारी और 5 साल चुनाव लड़ कर विधायक – सांसद बनने वाले नेताओं को जीवन भर पेंशन देते हैं तो 5 साल की उम्र से मरते दम तक किसान अनाज उगाता है उसको 55 साल के बाद 18 हजार रुपया महीने का पेंशन दिया जाय, चौथी मांग है कि फल, साक, सब्जी आदि का समर्थन मूल्य तय करते हुए क्रय करने की गारंटी का क़ानून बने और उस पर भी सी टू प्लस फिफ्टी स्वामी नाथन आयोग की सिफारिस लागू हो |

वहीँ राहुल राज कहे कि प्रदेश सरकार से जमारी 28 मांग है जिसमें 2 प्रमुख मांग है पहला यह है कि 23 वर्षीय घनश्याम धाकड़ नाम का नौजवान जिसको पुलिस ने बर्बरता पूर्वक पीट कर मार दिया 17 साल का पाटीदार नौजवान था उसको थाने में बुला कर पीटा और तालू में बन्दूक लगा कर गोली मारी उसको ये दो निर्मम हत्या मंदसौर गोली काण्ड में हुई थी जिसकी अभी तक कोई जांच रिपोर्ट नहीं आई है, उसकी जांच वही दोषी अपराधी कर रहे हैं जिन्होंने यह कृत्य किया है, वही पुलिस के अधिकारी और एस डी एम कर रहे हैं, हमारी मांग है कि उन दोषी अधिकारीयों के विरुद्ध एस आई आर किया जाय और जो 7 हजार मुकदमें उस वक्त किसानो पर बने थे उनको सरकार वापस ले, जस्टिस जैन आयोग जैसा जो फर्जी आयोग बना, जिसने सरकार को क्लीन चिट दी है उसको सार्वजनिक पटल पर लाई जाय और जरूरत पड़े तो सी बी आई इसकी जांच करे कि गोली किसने चलाई है |

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here