Home वाइल्डलाइफ जंगली हाथी के हमले से दादा की मौत पोता घायल क्षेत्र में...

जंगली हाथी के हमले से दादा की मौत पोता घायल क्षेत्र में दहशत का माहौल

183
0

वन विभाग की लापरवाही के चलते गई दादा की जान और पोता हुआ घायल, क्षेत्र में खतरनाक हाथी के होने की जानकारी के बाद भी वन विभाग बना रहा मूकदर्शक।

उमरिया – जिले के मानपुर नगर के खुटार इलाके में न्यायालय के नजदीक सुबह सुबह जंगली हाथी पहुंच गया। सुबह खेत पर काम कर रहे किसानों की नजर जैसे ही जंगली हाथी पर पड़ी, किसानों में भगदड़ मच गई। उसी दौरान मानपुर नगर के सम्मानित बुजुर्ग किसान अरुणव दयानंद पयासी अपने 20 वर्षीय पोते नयन पयासी के साथ खेत मे टहल रहे थे तभी जंगली हाथी उन पर हमला बोलते हुए अपने पैरों से कुचल दिया जिसमें 65 वर्षीय दादा की मौत हो गई और पोता नयन पयासी किसी तरह हल्ला मचाते हुए भाग कर अपनी जान बचाया हालांकि पोते को भी चोट आई है जिसका सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मानपुर में इलाज किया जा रहा है।

घटना की सूचना मिलते ही भारी संख्या में दल बल के साथ मानपुर रेंजर मौके पर पहुंच कर जंगली हांथी को भगाने के प्रयास में जुटे हैं वहीं जंगली हाथी को देखने मौके पर स्थानीय लोगों की भीड़ भी जमा हो गई थी।

जंगली हाथी के हमले से दादा की मौत पोता घायल क्षेत्र में दहशत का माहौल

मानपुर रेंजर मुकेश अहिरवार ने बताया कि खुटार निवासी मृतक 65 वर्षीय अरुणव दयानंद पयासी अपने खेत मे टहल रहे थे तभी जंगली हाथी पहुंच कर उन पर हमला कर दिया जिससे उनकी मौत हो गई। सूचना मिलते ही वन विभाग की टीम मौके पर पहुंच कर हाथी को भगाने का प्रयास कर रही है। वहीं रेंजर ने बताया कि अभी पोस्टमार्टम होने के बाद तात्कालिक सहायता राशि के रूप में 1 हजार रुपये दिए जाएंगे और शीघ्र ही 8 लाख रुपये की राशि भी दी जाएगी।
सारी घटना बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के मानपुर बफर से सटे राजस्व एरिया की है।

वन्य जीव विशेषज्ञों की माने तो यह हाथी उन 40 जंगली रहवासी हाथियों के झुंड से अलग है इसकी उम्र लगभग 12 वर्ष बताई गई है। यह वही हाथी है जो कुछ दिन पूर्व अनूपपुर जिले में एक युवक को कुचल कर मार दिया था और कई क्षेत्रों में लगातार उत्पात मचाता रहा है और अब उमरिया जिले के बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के मानपुर क्षेत्र में पहुंच कर पहली घटना को अंजाम दिया है।

जंगली हाथी के हमले से दादा की मौत पोता घायल क्षेत्र में दहशत का माहौल

गौरतलब है कि पार्क प्रबंधन को इसके मूमेंट की लगातार जानकारी होने के बाद भी पार्क प्रबंधन लापरवाही बरतते हुए इसको भगाने का कोई प्रयास नही किया, यदि समय रहते प्रबंधन इसको रिहायसी इलाके से दूर कर देता तो यह घटना घटित नही होती। वहीं अब मानपुर नगर और उसके आसपास क्षेत्र के लोग दहशत में हैं कि यदि रात में यह हाथी किसी घर पर या आने जाने वाले राहगीर पर हमला कर दिया तो उनको जान बचाना मुश्किल पड़ेगा।

हालांकि मानपुर रेंजर आम जनता से अपील कर रहे हैं कि जंगली हाथी से सावधान रहें, अकेले क्षेत्र में न जाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here