Home प्रदेश कमिश्नर और एडीजी ने कार्यक्रम स्थल का लिया जायजा

कमिश्नर और एडीजी ने कार्यक्रम स्थल का लिया जायजा

586
0

मुख्यमंत्री के प्रस्तावित भ्रमण को देखते हुए एडीजी, कमिश्नर, कलेक्टर तथा पुलिस अधीक्षक ने कार्यक्रम स्थल में तैयारियों का किया निरीक्षण, यहां क्या है खास।

उमरिया – प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के उमरिया जिले में प्रस्तावित भ्रमण को द्रष्टिगत रखते हुए आयुक्त शहडोल संभाग राजीव शर्मा, ए डी जी पुलिस शहडोल जोन डी सी सागर, कलेक्टर डॉ. कृष्ण देव त्रिपाठी, पुलिस अधीक्षक प्रमोद सिन्हा ने जिला स्तरीय अधिकारियों की उपस्थिति में कार्यक्रम स्थल क्रीड़ा परिसर भरौला में चल रही तैयारियों का जायजा लिया।

उन्होंने मंच, जनता के बैठने की व्यवस्था, कार्यक्रम स्थल तक पहुंचने के मार्ग, पार्किंग व्यवस्था, आदि का जायजा लिया तथा सबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए, कमिश्नर ने खेल परिसर भवन में कान्फ्रेसिंग व्यवस्था तथा एयर स्टिप से कार्यक्रम स्थल तक के मार्ग का भी निरीक्षण किया, साथ में अपर कलेक्टर के सी बोपचे, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रतिपाल सिंह महोबिया, एसडीएम बांधवगढ़ सिद्धार्थ पटेल, एसडीओपी उमरिया नागेन्द्र प्रताप सिंह चौहान सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

यहां क्या है खास और निर्माण में क्यों हुआ देर

गौरतलब है आदिवासी क्रीड़ा परिसर तत्कालीन अजाक मंत्री ज्ञान सिंह द्वारा पहल कर अजाक मद से स्वीकृत करवाया गया था, और भूमिपूजन करने के बाद कार्य प्रारम्भ कर दिया गया था। इस क्रीड़ा परिसर की लागत 1436 लाख रुपये है। कुछ कार्य होने के बाद तत्कालीन कांग्रेस की सरकार में इसको होशंगाबाद स्थानांतरित करने का प्रस्ताव रखा गया था जिसके चलते इस क्रीड़ा परिसर का कार्य बंद हो गया था। हालांकि जिले के कांग्रेसी नेता और विधायक शिव नारायण सिंह के प्रयास से पुनः इस क्रीड़ा परिसर के बजट को रिलीज किया गया और कार्य शुरू हुआ, यही कारण रहा देर होने का।
यहां एफ टाइप, जी टाइप 2, एच टाइप 8, आई टाइप 4, क्वार्टर बने हैं, 120 सीटर छात्रावास बनाया गया है, 1341 मीटर की बाउंड्री वाल बनाई गई है। स्पोर्ट्स कैम्पस में बॉक्सिंग रिंग, 400 मीटर का ट्रैक, बास्केटबॉल, फुटबॉल, बालीबाल, हॉकी ग्राउंड के साथ अन्य खेलों के लिए सुविधाएं मुहैया कराई गई है।


गौरतलब है कि प्रदेश के मुखिया का संभावित दौरा 13 मई को होना है और उसी दिन इस क्रीड़ा परिसर का लोकार्पण भी किया जाएगा, जो उमरिया जिले के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि कहलाएगी। यदि इसका सही तरीके से उपयोग किया गया और यहां राज्य सरकार द्वारा अच्छे कोच उपलब्ध कराए गए तो वो दिन दूर नही जब यहां की प्रतिभाएं निखर कर सामने आएंगी और राष्ट्रीय स्तर पर जिले के नाम रोशन करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here