Home राजनीति एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी...

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

135
0

आज आपको एक खास खबर से रूबरू करवा रहे हैं, गांधी परिवार और उमरिया के क्या सम्बन्ध हैं और कब से हैं, जानिए पूरी खबर

उमरिया – जिले की स्थापना वर्ष 1998 में हुई थी तब केन्द्र में नेता प्रतिपक्ष के रूप में सोनिया गांधी चुनी गई थी और प्रदेश में भाजपा की सरकार रही। 1998 से पूर्व उमरिया जिला नही था बल्कि यह शहडोल जिले में आता था। तब भी उमरिया का अपना अलग स्थान रहा।

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

8 अप्रैल को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी शहडोल आये और संयोगवश उनके हेलीकॉप्टर का फ्यूल कम हो गया जिसके चलते वो रात्रि का भोजन घुनघुटी स्थित मदारी ढाबा में किये और रात्रि विश्राम शहडोल में किये।

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

यह भी एक संयोग था कि 9 अप्रैल मंगलवार की सुबह शहडोल से सड़क मार्ग से चलकर उमरिया पंहुचे और एसपी कार्यालय के समीप स्थित कब्रिस्तान में महुआ बीनने वालों को देख कर अपनी गाड़ी रुकवाए और उनके बीच पहुंच कर खुद भी महुआ बीने और उनके साथ बातचीत भी किये।

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

इसके बाद राहुल गांधी उमरिया हवाई पट्टी पहुंचे हैं जहां से निजी विमान से दिल्ली के लिए रवाना हो गए हवाई पट्टी में कांग्रेस के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया।

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

इस दौरान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जीतू पटवारी ने एमपी की 29 लोकसभा सीटों में भाजपा से अधिक सीटें जीतने का दावा किया है, पीएम नरेंद्र मोदी के द्वारा कांग्रेस के घोषणा पत्र को मुस्लिम लीग की छाप वाला बताने पर जीतू पटवारी ने कहा की पूरे देश का भ्रमण करने और आम जनता की बात सुनने के बाद यह घोषणा पत्र तैयार किया गया है, यह घोषणा पत्र नही बल्कि न्याय पत्र है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की बात पर बोले कि उनका क्या समाप्त हो गया कि उनको पद से हटाया गया, उनको वो बोलना चाहिए। इस दौरान उनके साथ नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंगार, जिला अध्यक्ष कांग्रेस अजय सिंह पूर्व अध्यक्ष राजेश शर्मा वरिष्ठ कांग्रेसी त्रिभुवन प्रताप सिंह कई अन्य नेता मौजूद रहे।

अब देखिए गांधी परिवार का उमरिया से कनेक्शन दादी से लेकर पोते तक का सफर

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

अब आप कहेंगे कि उमरिया से क्या कनेक्शन है तो हम आपको बताते हैं।
वर्ष 1981 को याद कीजिये तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी 20 जुलाई 1981 को पाली से 10 किलो मीटर दूर ग्राम पंचायत मालियागुड़ा पहुंच कर संजय गांधी ताप विद्युत गृह की आधारशिला रखीं। उस समय तत्कालीन उमरिया 80 से कांग्रेस विधायक शान्ति शर्मा रही और नौरोजाबाद 81 से भाजपा विधायक ज्ञान सिंह रहे। इस तरह उमरिया (तत्कालीन शहडोल जिले) को सौगात दीं जिसका कार्य युद्ध स्तर पर चालू हुआ और पहली इकाई मार्च 1993 में चालू हुई।

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गांधी की हत्या के बाद उनके बड़े पुत्र राजीव गांधी देश के प्रधानमंत्री बने और वर्ष 1985 में तीन दिन के लिए बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के भ्रमण पर आए जिसमे 13, 14 और 15 जुलाई 1985 की तारीख शामिल है। 14 जुलाई को कोडार गांव के छायन मोहल्ला अपनी पत्नी सोनिया गांधी के साथ पहुंच गए। उस समय तत्कालीन उमरिया विधायक रण विजय प्रताप सिंह बाबू साहब और शहडोल जिले के अन्य नेता रहे तो वहीं सेवादल के जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह बघेल अपने प्रधानमंत्री को सलामी देने को खड़े थे और वो उनके घर पहुंच गए, इतना ही वहीं बस्ती के आदिवासी समुदाय से भी मिले और ओमकार सिंह बघेल के घर पहुंच कर उनके यहां बिछी चौकी (तखत) पर बैठ गए और हालचाल जाने।

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

अब जब वर्ष 2003 में केन्द्र में भाजपा की सरकार रही और प्रदेश में कांग्रेस की सरकार रही तब नेता प्रतिपक्ष की भूमिका में सोनिया गांधी रही।

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

उस समय उमरिया जिला बने 5 वर्ष हो चुके थे और फिर 29 सितम्बर 2003 को तत्कालीन उमरिया 80 विधायक नरेन्द्र प्रताप सिंह दादाभाई और नौरोजाबाद 81 विधायक शकुंतला प्रधान की मौजूदगी में मंगठार में 500 मेगावाट के यूनिट की आधारशिला रखने आईं।

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

लगातार दादी से लेकर पोता तक उमरिया पहुंच गए चाहे वो किसी भी स्थिति में या किसी कार्यक्रम में पहुंचे लेकिन पहुंच गए।इसको भी एक संयोग ही कह सकते हैं या उमरिया से कनेक्शन कह सकते हैं।

एक रिपोर्ट गांधी परिवार और उमरिया के क्या हैं सम्बन्ध राहुल गांधी पहुंचे उमरिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here