Home राज्य बैगाओं ने घेरा कलेक्टर कार्यालय को – सुरेन्द्र त्रिपाठी

बैगाओं ने घेरा कलेक्टर कार्यालय को – सुरेन्द्र त्रिपाठी

482
0

उमरिया 05 मार्च – राष्ट्रीय दलित महासभा के बैनर तले उमरिया जिला कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया बैगाओं ने मूलभूत सुविधाओं की मांग को रखा सामने, चेतावनी भी दिया कि अगर हमारी मांग नहीं हुई पूरी तो 50 लाख दलित भोपाल और दिल्ली का भी करेंगे घेराव, कहा मुख्य मंत्री का वादा खोखला है | एस डी एम कहे कि जो मांग हमारे स्तर की होगी उसको करेंगे पूरा बाकि एअज्य शासन के निर्णय पर |

उमरिया जिला मुख्यालय स्थित कलेक्टर कार्यालय का घेराव राष्ट्रीय संरक्षित बैगा जन – जाती के लोगों ने करते हुए कलेक्ट्रेट के गेट पर धरना रख दिया और नारा लगते रहे जो जमीन सरकारी वो हमारी है, वहीँ जिला प्रशासन के सामने अपनी मांगों को रखा कहा कि हमको जंगल की भूमि का पट्टा दिया जाय ताकि हम अपना परिवार पाल सकें, जंगल विभाग वाले हमारी झोपड़ी को जला देते हैं, ग्राम अतरिया तक पंहुच मार्ग न होने से कोई बीमार होता है तो वहीँ मरने को मजबूर हो जाता है | ग्राम नरवार निवासी संतोषी बाई बैगा का कहना है कि हम आदिवासियों को 5 एकड़ जमीन दिया जाय जिससे हम लोग अपना गुजारा कर सकें, हम लोग जिस जंगल की जमीन को साफ़ करके जोतते हैं और अपनी झोपड़ी बनाते हैं तो जंगल विभाग वाले आकर उसको जला देते हैं | वहीँ ग्राम अतरिया की गोमती बाई बैगा का कहना है कि हमारे गाँव तक पहुँचाने के लिए आज तक रोड नहीं है यदि कोई बीमार हो जाय या किसी को डिलीवरी होने वाली हो तो सड़क तक नहीं पहुँच सकते हैं |

राष्ट्रीय दलित महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय भारती ने कहा कि आज हम लोग हाई कोर्ट के द्वारा दिए गए फैसले के विरोध में यहाँ आये हैं, जो फैसला था कि 11 लाख  आदिवासियों को जमीन से बेदखल किया जाय | हम लोग लगातार लड़ रहे हैं, हम लोग मानने वाले नहीं हैं यहाँ भी करेंगे, पूरे भारत में भी करेंगे जब तक वो निरस्त नहीं होगा हमें पेशी नहीं चाहिए वो क़ानून  निरस्त होना चाहिए, दूसरा है कि ग्राम अतरिया तक जाने के लिए रास्ता नहीं है आदिवासी बैगा बाहुल्य क्षेत्र है वहां 108 एम्बुलेंश नहीं जा सकती, हम लोग 5 साल से लगातार आ रहे हैं लेकिन हमारी कोई भी मांग नहीं मानी गई भले ही कमल नाथ ने हमारी एक मांग मानी थी कि 10 हजार रुपये भत्ता देंगे लेकिन वह भी खोखली निकली कब देगा 10 हजार किसी को पता ही नहीं है |

ज्ञापन लेने आये बांधवगढ़ एस डी एम नीलाम्बर मिश्रा को इन आदिवासियों के जिद के आगे काफी देर तक खडा रहना पडा बाद में ज्ञापन दिए | इस मामले पर एस डी एम कहे कि जो इनकी मांगे हैं माननीय मुख्य मंत्री जी के नाम हैं उसको वहां तक पंहुचा दिया जाएगा जो निर्देश प्राप्त होंगे वैसी कार्यवाई होगी वहीँ जो जिला स्तर पर सुलझाने वाली होगी उस पर कार्यवाई की जायेगी |

गौरतलब है कि देश आजाद हो ने से लेकर आज तक ग्राम अतरिया के लिए पंहुच मार्ग नहीं बनवाया गया चाहे सरकार किसी की रही हो सभी के आदिवासी हित के दावे वहां खोखले साबित होते हैं |

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here