Home क्राइम पुलिस अभिरक्षा में बैगा युवक की मौत – सुरेन्द्र त्रिपाठी

पुलिस अभिरक्षा में बैगा युवक की मौत – सुरेन्द्र त्रिपाठी

530
0

उमरिया 08 अप्रैल – जिले के मानपुर थाना अंतर्गत ताला पुलिस  चौकी में पी एस आई की निर्मम पिटाई से बैगा जन जाती के युवक की मौत | एस पी ने किया पी एस आई को निलंबित दिए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश | उमरिया जिला अस्पताल में हुआ पोस्टमार्टम, परिजन मांग रहे हैं न्याय |  जिला अस्पताल को पोस्ट मार्टम के दौरान पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया, वहीँ जब शव को मृतक के गृह ग्राम ताला ले जाया गया तो वहां भी पुलिस बल भारी संख्या में तैनात रहा जब तक शव का अंतिम संस्कार नहीं हो गया |

उमरिया जिले के मानपुर थाना अंतर्गत आने वाली ताला चौकी में पदस्थ पी एस आई लता मेश्राम की गुंडागर्दी से ताला क्षेत्र के नागरिक परेशान हैं कई शिकायतों के बाद भी पुलिस विभाग उस पर कोई कार्यवाई नहीं किया इसी कड़ी में कल दिन में लगभग 12 बजे ग्राम ताला के ही निवासी बैगा जन – जाती के 28 वर्षीय युवक स्वामीदीन बैगा को फोन कर चौकी बुलाई और जम कर पिटाई कर दी जिससे स्वामीदीन बैगा की मौत हो गई, मृतक स्वामीदीन राष्ट्रीय संरक्षित विशेष बैगा जन जाती का युवक है, मृतक की पत्नी अनिता बैगा आरोप लगाते हुए बताई कि कल दिन में मेरे पति को फोन लगा कर मैडम अपशब्दों का प्रयोग कर चौकी बुलाई तो हम भी साथ में गए वहां पर मेरे पति के साथ मार – पीट करने लगी और हमको कह दीं कि तुम जाओ तब  हम मना कर दिए कि साथ में लाये हैं साथ में जायेंगे, तो नहीं आने दी कही की इसके खिलाफ सपना बैगा रिपोर्ट की है अब ये यहीं रहेगा तब हम चले आये थोड़ी देर बाद हम समोसा लेकर गए तो मेरे पति और बच्ची दोनों खाए हैं और मेरे पति कहे कि ये जो डंडा रखा है उसी से मेरे को मैडम मार रही है और रोते रहे फिर हम उमरिया चले गए बाद में पता चला की उनकी मौत हो गई |

वहीँ मृतक के पिता हरीदीन बैगा का कहना है कि ताला चौकी वाली मैडम फोन लगा कर बुलाई की तुम आओ नहीं मैं आउंगी तो बहुत मारूंगी तब मेरी बहू डर के मारे लेकर गई फिर हम 4 बजे चौकी जा रहे थे तो वो लोग गाडी से लेकर ताला अस्पताल ला रहे थे तो हम देखे कि हमारा बेटा मर चुका था तब हम कहे कि ये क्या हो गया अभी तो ठीक था लड़का तंदुरस्त था फिर हमको भी गाडी में बैठा कर मानपुर ले गए वहां डाक्टर देखे मर चुका था, ये लोग हमको कोई सूचना नहीं दिए थे और वहां लाश छोड़ कर चले आये फिर 2 बजे रात हमारे बेटे के शव को उमरिया ले आये कहे कि वहां पोस्ट मार्टम होगा मानपुर में नहीं होगा अंडर में तो उनके है कैसे मर गया वो लोग जाने हमको न्याय चाहिए नहीं तो हम एस पी और कलेक्टर साहब के पास नहीं तो 181 में शिकायत करेंगे | कितने भोले ये जन जाती के लोग है कि इनके लिए कलेक्टर और एस पी ही सब कुछ हैं फिर भी इनके साथ अन्याय हो रहा है |

इस मामले में ग्राम पंचायत ताला के सरपंच रतिभान सिंह का कहना है कि मैडम उनको बुलवाई हैं और मामला यह है कि कोई सपना करके लड़की है जो उसके खिलाफ शिकायत की थी कि लगातार दो साल से शादी का झांसा देकर दुष्कर्म कर रहा था उसके बाद घटना घटी कि वो मृत्यु को प्राप्त हो गया, ऐसी घटना में निष्पक्ष जांच हो और दोषी को सजा मिले पीड़ित को न्याय मिले पंचायत की तरफ से अंत्येष्ठी सहायता राशि 5 हजार रुपये हम देंगे और जनपद से श्रमिक सहायता राशि दिलवाएंगे और जो संभव मदद हो सकेगी करेंगे ये लड़का पंचायत में मेट का काम करता था |

इस मामले में पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा से फोन पर बात किया गया तो कहे कि मेरे द्वारा तत्काल प्रभाव से पी एस आई लता मेश्राम को निलंबित कर दिया गया है और मजिस्ट्रियल जांच के लिए लिख दिया गया है और पुलिस इस मामले में खुद आरोप के घेरे में है इसलिए मैं कुछ नहीं बोल पाऊंगा | वहीँ एस डी एम एवं उपखंड मजिस्ट्रेट मानपुर अनुराग सिंह का कहना है कि कल मुझे जानकारी प्राप्त हुई थी कि 376 के प्रकरण में ताला निवासी स्वामीदीन बैगा पिता हरीदीन बैगा को पुलिस कस्टडी में लिया गया था अचानक तबियत ख़राब होने पर मानपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भरती करवाया गया जहाँ कुछ समय बाद उसकी मौत हो गई जिसके सम्बन्ध में उसके परिजनों ने आरोप लगाया है कि ताला चौकी प्रभारी द्वारा मार – पीट की गई है हालाँकि उसके सम्बन्ध में शव का पोस्ट मार्टम कराया गया है एक्सिक्यूटिव मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में शव का पंचनामा कराया गया है, जो भी रिपोर्ट हमारे सामने आती है उसके अनुसार कार्यवाई की जायेगी, ये कार्यवाई हमारे सीजेएम साहब की उपस्थिति में कराया गया है निष्पक्ष जांच हो रही है जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाई की जायेगी वहीँ पी एस आई लता मेश्राम के बारे में ग्रामीणों द्वारा की गई अन्य शिकायतों के सम्बन्ध में पूंछा गया तो उनका कहना है कि अभी मेरे सामने कोई शिकायत नहीं आई है और अगर किसी अन्य श्रोतो से पता चलता है तो उस पर भी कार्यवाई की जायेगी |

गौरतलब है कि पुलिस द्वारा मृतक के खिलाफ जो अपराध दर्ज किया गया है वह अपराध क्रमांक 105/19 धारा 376 पास्को एक्ट की धारा 5ल/6 दिनांक 07/04/2019 के 20.28 बजे अर्थात रात 8 बज कर 28 मिनट पर उसकी मौत के बाद कायम किया गया है ऐसे में चौकी प्रभारी खुद संदेह के घेरे में आती है की मौत दिन में होती है और उसके 5 घंटे बाद ऍफ़ आई आर होना समझ से परे हैं, वहीँ मृतक के शव को रात में 2 बजे उमरिया जिला अस्पताल लाकर फ्रीजर में रखना भी संदेहास्पद है, जानकारों का मानना है कि शव को फ्रीजर में रखने के बाद मार – पीट के निशान मिट जाते हैं जो संदेह को जन्म देता है अब सब कुछ डाक्टरों की टीम के ऊपर निर्भर है कि मृतक के छोटे – छोटे बच्चों और परिवार को न्याय मिल पाता है या गरीब बैगा परिवार का मामला भी अन्य मामलों जैसे निपट जाता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here