Home राजनीति चुनाव जीतने के बाद भी जनता के बीच जाने का साहस नही...

चुनाव जीतने के बाद भी जनता के बीच जाने का साहस नही जुटा पा रहीं हैं मानपुर विधायक

224
0

उमरिया – मध्य प्रदेश में इन दिनों विकसित भारत संकल्प यात्रा के तहत शिविरों का आयोजन लगातार हो रहा है। जिसकी जिम्मेदारी क्षेत्रीय विधायक को सौंपी गई है। लेकिन उमरिया जिले की जनता पूर्व मंत्री एवं वर्तमान विधायक मीना सिंह से खासा नाराज है। जैसा सारा विपक्ष आरोप लगा रहा है कि 40 प्रतिशत ईव्हीएम मैनेजमेंट रहा, उसके बदौलत वह चुनाव तो जीत गई लेकिन अभी भी लोग उन्हें पसंद नहीं कर रहे हैं। यही कारण है कि आम जनता के बीच जाने में मुंह छिपाती नजर आती हैं।

30 दिसम्बर को नगर पालिका पाली में विकसित भारत संकल्प यात्रा के तहत शिविर का आयोजन हुआ जहां पूर्व मंत्री एवं वर्तमान विधायक मीना सिंह भी आने वाली थी लेकिन भीड़ इकट्ठी नहीं हुई पूरी तरह से टेंट और पंडाल तो लगे रहे लेकिन लोग वहां पर नहीं पहुंचे।

गिने चुने लोगों के बीच पूरी तरह से कार्यक्रम को आयोजित किया गया। जहां केवल कुछ ही पार्षद आए थे वहीं क्षेत्र की जनता भी इस मौके पर नहीं आई। अब जनता की इसमें नाराजगी कहें या कुछ और बहरहाल इससे साफ साबित होता है कि लोग पूर्व मंत्री एवं वर्तमान मानपुर विधायक मीना सिंह से खुश नहीं है।

नगर पालिका ने किया कोरम पूरा

उमरिया जिले की नगरपालिका पाली में इन दिनों लगातार भ्रष्टाचार का आलम है यही नहीं शासकीय कार्य में भी लापरवाही लगातार हो रही है। विकसित भारत संकल्प यात्रा शासकीय प्रोग्राम के रूप में चयनित किया गया है जहां पर हर क्षेत्र में इसका आयोजन हो रहा है उस संबंध में लगातार प्रशासन की तरफ से कार्य भी आवंटन किए गए है। लाखों का खर्च भी इसमें आ रहा है लेकिन उसके बाद भी शासन के पैसों का दुरुपयोग किया गया और वहां भीड़ भी इकट्ठी नहीं हुई अब लाखों का बजट इसमें जरूर आहरण किया जाएगा।

बहरहाल कुछ भी हो पर लाखों का बजट तो इस कदर निकल रहा हैं जैसे यह कोई नार्मल आयोजन हो। वहीं भाजपा के स्थानीय नेताओ सहित जनप्रतिनिधि भी इस कार्यक्रम में भीड़ एकत्रित नहीं कर पाए।

इतना ही नही जिला भाजपा कार्यालय में जिला कार्यसमिति की बैठक में भी मानपुर विधायक को बुलाया गया था लेकिन वहां भी न पहुंच कर यह बताने का प्रयास किया गया कि संगठन हमारे लिए कोई महत्व नही रखता है हालांकि यह तो विधानसभा चुनाव के समय से ही दिख रहा था कि संगठन की लगातार उपेक्षा की जा रही है। जबकि भाजपा में सत्ता और संगठन का समन्वय बताया जाता है लेकिन मानपुर विधायक के लिए संगठन का कोई महत्व ही नही है। बार – बार संगठन की उपेक्षा सभी के सामने खुल कर आने से अब लोगों की जुबान पर आने लगा है कि प्रदेश में अब मानपुर विधायक को संगठन की जरूरत नही है और संगठन भी कुछ कर पाने में असमर्थ नजर आ रहा है……..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here